देवी देवताओं की प्राण-प्रतिष्ठा विधि | Pran Pratishtha Vidhi

किसी भी मंदिर के निर्माण के बाद सबसे पहले उनमें स्थापित होने वाले देवी देवताओं की मूर्तियों की प्राण-प्रतिष्ठा(Pran Pratishtha Vidhi) की जाती है। पूरे नियम अनुसार इसे किया जाता है। देवताओं की प्रतिष्ठा कर्म …

Read more

जानिये किस रोग में कौन-सा योगासन फायदेमंद होता है ?

योगासन ही एक ऐसा माध्यम है, जो उनको सम्पूर्ण स्वास्थ्य के साथ सुन्दरता प्रदान कर सकता है। योग आसन शरीर की विभिन्न मुद्राएँ हैं जिनमें बैठने के आसन से लेकर ऐसी स्थितियाँ शामिल हैं जहाँ …

Read more

सुखी जीवन के लिए अपनाये यह वास्तु टिप्स – Vastu Shanti Mantra

वास्तु शास्त्र की पूजा परिवार में सुख, समृद्धि हेतु बहुत जरुरी है। वास्तु शास्त्र पूजन की कहानी: मत्स्यपुराण में लिखा है कि अंधकासुर के वध के समय भगवान शंकर के ललाट से पृथ्वी पर जो …

Read more

सर्व सिद्धि के लिए नरसिंह भगवान पूजा विधि- Narsingh Bhagwan

Narsingh Bhagwan Puja: ॐ सोममण्डलाय षोडषकलात्मने देवार्ष्यामृताय नमः (यह अर्घ्य मन्त्र है) ॐ आत्मतत्वात्मने नमः, ॐ विद्यातत्त्वात्मने नमः ॐ शिवतत्वात्मने नमः निम्नलिखित मंत्रों द्वारा अपने साथ ही मण्डल का भी विधिवत प्रोक्षण करें। फिर अक्षत फूलों …

Read more

गायत्री मंत्र की चमत्कारिक शक्तियाँ – Gayatri Mantra in Hindi

गायत्री महामंत्र सम्पूर्ण ब्रह्मांड का मूल आधार है। जब भारत में सभी गायत्री उपासना करते थे, तब भारत जगद्गुरु था, सारे विश्व का मार्गदर्शक था। जब से इसे प्रतिबंधित कर दिया गया, इस राष्ट्र के …

Read more

आश्चर्यजनक लाभ के लिए इन मंत्रो से कीजिये मेडिटेशन/Om jaap

ओम को हिन्दू धर्म में महामंत्र माना गया है। शास्त्रों के अनुसार माना जाता है कि संपूर्ण सृष्टि का वास इस जाप में है और यही कारण है कि इसका हमेशा जप करना ईश्वर को …

Read more

उज्जायी प्राणायाम के फायदे और विधि – ujjayi pranayama in hindi

यौगिक प्राणायाम में उज्जायी प्राणायाम बहुत रुचिकर और लाभदायक तकनीकें हैं। एकाग्रता बढाने में और ध्यानावस्था को प्राप्त करने में उज्जायी प्राणायाम मदद करता हैं। जाप या उच्चार से उत्पन्न होने वाली तरंगें मनोदशा बदलने …

Read more

योग की शक्ति,योग क्या है? और इसके आठ अंग !Yoga In Hindi

योग/Yoga का मतलब होता है स्वयं से जुड़ाव। योग हमारे मन की व्रतियों को स्थिर करता है। चित/मन की वृत्तियों के रुक जाने पर आत्मा अपने स्वरूप में स्थिर हो जाती है। योग को मन …

Read more

kapalbhati pranayam: नई ऊर्जा का संचार करता है कपालभांति प्राणायाम

कपालभांति (kapalbhati pranayam) शरीर की अशुद्धियों को दूर करती हैं। कपाल शब्द का संस्कृत में अर्थ है माथा और भांति का अर्थ है चमक अत: कपालभांति का शाब्दिक अर्थ हैं शरीर और मन की शुद्धि …

Read more

प्राणायाम/Pranayam: प्राण और आयाम की शक्ति और लाभ !

शरीर और मन एक दूसरे के साथ ऊर्जा के जीवंत तंत्र से जुडे हुये हैं जो स्वॉंस के प्रवाह से चलता है। जीवन, ऊर्जा और श्वास एक दूसरे से जुडे हुए हैं इन्हें अलग नहीं …

Read more